Difference Between Commercial and Hand-Made Soap in hindi

Difference Between Commercial and Hand-Made Soap in hindi



हम में से कई लोग हैंड मेड साबुन का इस्तेमाल करते थे जिनको लोग घरो में ही बना लिया करते थे, पुराने समय में ज्यादा साबुन की कम्पनिया नहीं होती थी पर आज के समय में बहुत सारी कंपनी मौजूद है पर पहले के ज़माने में लोग एक साबुन से नहा भी लेते थे और कपडे भी धोते थे। आज भी बहुत से लोग हातो से बानी सबहुन इस्तेमाल करते है पर अब फैक्ट्रियो में बनने वाली साबुन की भरमार है. आज हम जानेगे के हैंड मेड और कमर्शियल साबुन में क्या अंतर है। 

त्वचा के बेहतर देखभाल लोग साबुन का इस्तेमाल करते है जिससे हवा में  घुल मिटटी और बैक्ट्रिया हट जाए. पहले के समय में ये थोड़ा मुश्किल होता था पर आज के समय ऐसा नहीं है आज काफी बड़ी कंपनी की साबुन मार्किट में  मिलती है जिसको अच्छे से टेस्ट किया जाता है। पर कुछ साबुन में काफी केमिकल भी होते है जो हमारी त्वचा को नुक्सान पंहुचा सकते है। 

साबुन को इस्तेमाल करने से पहले उसके बारे में जरूर जाने क्योकि ये आपकी त्वचा का सवाल है मार्किट में बहुत सारी साबुन है जो त्वचा को सुन्दर दिखाने के लिए ख़राब केमिकल्स इस्तेमाल करती है जिससे तत्व  ख़राब होती है पर घ्यान रखिए ये आपकी त्वचा को ख़राब भी कर सकती है। 

मुख्य सामग्री

Commercial साबुन सामग्री:

Parabens

phthalates

पेट्रोकेमिकल्स

सिंथेटिक इत्र

कृत्रिम रंग

Hand-Made साबुन सामग्री:

स्वस्थ तेल

आवश्यक तेल

शहद, एलो, दलिया आदि।

दोनों कैसे बनते हैं

Commercial साबुन उत्पादन:

बड़े पैमाने पर उत्पादित

फैक्ट्री में बना हुआ

Hand-Made साबुन उत्पादन:

स्थानीय उत्पादन

हाथ से बनाई गई

देखभाल के साथ बनाया गया

स्वस्थ तेल: आम धारणा के बावजूद - साबुन के अंदर तेल का घटक बहुत जरुरी है, अगर आपकी त्वचा तैलीय या मुंहासे वाली है। तो नारियल का तेल, अंगूर के बीज का तेल या जैतून का तेल जैसे तेल त्वचा को पोषण और मॉइस्चराइज करने में मदद करते हैं और इसे अपने प्राकृतिक पीएच स्तर पर वापस लाते हैं।

आवश्यक तेल: सुगंधित प्राकृतिक साबुन आमतौर पर एक प्राकृतिक, नुकसान रहित गंध पैदा करने के लिए एक आवश्यक तेल के साथ बनाए जाते हैं।

शहद, मुसब्बर, दलिया आदि: प्राकृतिक साबुन जैविक, biodegradable components से बनते है. जिन्हें सुरक्षित तरीके से कटा  जाता है। रासायनिक components के विपरीत, एक इंसान आसानी से समझ सकता है कि ये तत्व क्या हैं और उनका शरीर पर कैसे इफ़ेक्ट पड़ेगा। 

इंसान रोजाना अपने काम पर जाने के लिए घर से बहार निकलता है जिससे उसकी त्वचा को धूल, पोलुशन, का सामना करना पड़ता है, शरीर से इससे गंदिगी को हटाने के लिए इंसान साबुन का इस्तेमाल करता है जिससे उसकी त्वचा साफ़ हो सके। 

मुख्य सामग्री 

साबुन  खरीदने से पहले उसके अंदर रसायन तत्व के बारे में जरूर जाने,  आप त्वचा को साफ़ करना चाहते है ना की केमिकल से दूषित, इसलिए साबुन के पैक के पीछे उसके तत्वों को जरूर पढ़े। 

हानिकारक Commercial साबुन सामग्री

Parabens: रासायनिक, ये हानिकारक तत्व ज्यादा तर Commercial साबुन और सोन्दर्ये साबुन में पाया जाता है आपकी त्वचा सुन्दर बनाने के लिए इसमें ये हानिकरक तत्व मिलाया जाता है जो आपकी त्वचा को दूषित करता है. 

Phthalates: कैंसर पैदा करने के लिए जाना जाता है, इस तत्व को अक्सर 'प्लास्टिसाइज़र' के रूप में प्रयोग  किया जाता है. ये हमारी त्वचा को काफी नुक्सान पंहुचा सकता है. 

पेट्रोकेमिकल्स: पेट्रोलियम से बने इन रसायनों को मनुष्यों के लिए असुरक्षित माना जाना है क्योंकि हमारे स्वास्थ्य पर इनके long term प्रभावों के बारे में बहुत कम जानकारी है।

सिंथेटिक परफ्यूम: artificial परफ्यूम सुगंध देते है , वे अच्छी गंध करते हैं, लेकिन एलर्जी और हार्मोनल मुद्दों से जुड़े होते हैं। साथ ही, परफ्यूम जैसे सिंथेटिक तत्व त्वचा को काफी समस्या का कारण बन सकते हैं और मुँहासे जैसे मौजूदा मुद्दों को बढ़ा सकते हैं।

artificial color: व्यावसायिक साबुन कृत्रिम रंगों से भरे होते हैं जो मनुष्यों में स्वास्थ्य समस्याओं और बीमारियों का कारण बनते हैं।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ