डैंड्रफ का इलाज घर पर | dandruff treatment at home in Hindi | Home Remedies in Hindi | dandruff treatment tips in Hindi | Health

0

 


डैंड्रफ का इलाज घर पर | dandruff treatment at home in Hindi | Home Remedies in Hindi | dandruff treatment tips in Hindi | Health


डैंड्रफ का इलाज घर पर (dandruff treatment at home in Hindi)डैंड्रफ एक आम समस्या है जो कई लोगों के सिर की त्वचा को प्रभावित करती है। यह एक ऐसी स्थिति है जहां खोपड़ी पर त्वचा झड़ जाती है, जिससे जलन और खुजली होती है। डैंड्रफ कई कारणों से हो सकता है, जिनमें रूखी त्वचा, ऑयली स्किन, फंगल इंफेक्शन या स्कैल्प पर बैक्टीरिया का अत्यधिक बढ़ना शामिल है। हालांकि डैंड्रफ कोई गंभीर स्थिति नहीं है, यह शर्मनाक और असुविधाजनक हो सकता है, इसलिए प्रभावी उपचार खोजना महत्वपूर्ण है। इस लेख में हम डैंड्रफ के कुछ घरेलू उपचारों के बारे में चर्चा करेंगे जिन्हें आप आजमा सकते हैं।


सेब का सिरका

सेब का सिरका डैंड्रफ के लिए एक लोकप्रिय घरेलू उपाय है। इसमें एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो रूसी पैदा करने वाले यीस्ट के विकास को कम करने में मदद कर सकते हैं। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए सेब के सिरके का इस्तेमाल करने के लिए एक स्प्रे बोतल में बराबर मात्रा में पानी और सेब का सिरका मिलाएं। मिश्रण को अपने स्कैल्प पर स्प्रे करें, इसमें मालिश करें और इसे गर्म पानी से धोने से पहले 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। आप इसे हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।

एप्पल साइडर विनेगर (ACV) एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और कसैला है जो स्कैल्प को एक्सफोलिएट करने और रूसी पैदा करने वाले फंगस के विकास को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप सेब के सिरके का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


एप्पल साइडर विनेगर रिंस: पानी और एप्पल साइडर विनेगर को बराबर मात्रा में मिलाएं। शैम्पू करने के बाद, इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर डालें और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक या दो बार इस उपाय का प्रयोग करें।


एप्पल साइडर विनेगर और टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों के साथ दो बड़े चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


सेब का सिरका और बेकिंग सोडा: दो बड़े चम्मच सेब के सिरके में दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


सेब का सिरका और नींबू का रस: दो बड़े चम्मच सेब के सिरके में दो बड़े चम्मच नींबू का रस मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


सेब का सिरका और शहद: दो बड़े चम्मच सेब के सिरके में एक बड़ा चम्मच शहद मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि सेब साइडर सिरका काफी अम्लीय हो सकता है और अगर अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है या सीधे त्वचा पर लगाया जाता है तो त्वचा में जलन हो सकती है। एप्पल साइडर विनेगर को हमेशा पानी या अन्य सामग्री के साथ पतला करें, और इसे अपने स्कैल्प पर लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद करें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


चाय के पेड़ की तेल

चाय के पेड़ का तेल एक प्राकृतिक एंटिफंगल और एंटीसेप्टिक एजेंट है जो रूसी को कम करने में मदद कर सकता है। यह Malassezia नामक एक विशिष्ट कवक के कारण होने वाले रूसी के इलाज में प्रभावी दिखाया गया है। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए टी ट्री ऑयल का उपयोग करने के लिए टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को नारियल तेल या जैतून के तेल जैसे वाहक तेल के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें, फिर इसे 30 मिनट से एक घंटे के लिए छोड़ दें और फिर इसे सौम्य शैम्पू से धो लें। आप इसे हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।

चाय के पेड़ का तेल एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और एंटी-फंगल एजेंट है जो रूसी पैदा करने वाले फंगस के विकास को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप टी ट्री ऑयल का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


टी ट्री ऑयल रिंस: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को पानी में मिलाएं। शैम्पू करने के बाद, इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर डालें और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक या दो बार इस उपाय का प्रयोग करें।


टी ट्री ऑयल और नारियल तेल: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को नारियल तेल में मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसकी मालिश करें। इसे 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे हल्के शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


टी ट्री ऑयल और एलोवेरा: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को एलोवेरा जेल के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसकी मालिश करें। इसे 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे हल्के शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


टी ट्री ऑयल और बेकिंग सोडा: बेकिंग सोडा के साथ टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


टी ट्री ऑयल और नींबू का रस: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को नींबू के रस में मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि चाय के पेड़ का तेल काफी गुणकारी हो सकता है और अगर अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाए या सीधे त्वचा पर लगाया जाए तो त्वचा में जलन हो सकती है। चाय के पेड़ के तेल को हमेशा पानी या अन्य सामग्री के साथ पतला करें और इसे अपने स्कैल्प पर लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद करें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


एलोविरा


एलोवेरा में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो एक चिड़चिड़ी खोपड़ी को शांत करने और रूसी को कम करने में मदद कर सकते हैं। यह स्कैल्प को मॉइस्चराइज़ करने और रूखेपन को रोकने में भी मदद कर सकता है, जो रूसी में योगदान कर सकता है। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए एलोवेरा का उपयोग करने के लिए, अपने स्कैल्प पर ताजा एलोवेरा जेल लगाएं और इससे मालिश करें। इसे सौम्य शैम्पू से धोने से पहले 30 मिनट से एक घंटे के लिए छोड़ दें। आप इसे हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।

एलोवेरा एक प्राकृतिक एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-फंगल एजेंट है जो रूसी पैदा करने वाले फंगस के विकास को नियंत्रित करते हुए स्कैल्प को शांत और मॉइस्चराइज करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप एलोवेरा का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:

एलोवेरा जेल: शुद्ध एलोवेरा जेल को सीधे अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 30-45 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


एलोवेरा और टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों के साथ दो बड़े चम्मच एलोवेरा जेल मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प में मालिश करें और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


एलोवेरा और शहद: दो बड़े चम्मच एलोवेरा जेल में एक बड़ा चम्मच शहद मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


एलोवेरा और नारियल का तेल: दो बड़े चम्मच एलोवेरा जेल में एक बड़ा चम्मच नारियल का तेल मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प में मालिश करें और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


एलोवेरा और नींबू का रस: दो बड़े चम्मच एलोवेरा जेल में दो बड़े चम्मच नींबू का रस मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि एलोवेरा काफी गाढ़ा और चिपचिपा हो सकता है, इसलिए इसे स्कैल्प पर लगाना आसान बनाने के लिए इसे अन्य सामग्रियों के साथ मिलाना आवश्यक हो सकता है। यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव नहीं कर रहे हैं, अपने स्कैल्प पर कोई नया उपचार लगाने से पहले हमेशा त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी असुविधा या जलन का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद कर दें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


नारियल का तेल

नारियल का तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर है जो खोपड़ी की शुष्कता को कम करने में मदद कर सकता है जो रूसी में योगदान कर सकता है। इसमें एंटीफंगल गुण भी होते हैं जो रूसी पैदा करने वाले खमीर के विकास को कम करने में मदद कर सकते हैं। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए नारियल के तेल का उपयोग करने के लिए, नारियल के तेल के कुछ बड़े चम्मच गर्म करें और इसे अपने स्कैल्प में मालिश करें। इसे सौम्य शैम्पू से धोने से पहले 30 मिनट से एक घंटे के लिए छोड़ दें। आप इसे हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।

नारियल का तेल एक प्राकृतिक मॉइस्चराइजर है जो रूसी के कारण होने वाली सूखी और खुजली वाली खोपड़ी को शांत करने में मदद कर सकता है। इसमें एंटीफंगल और जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं जो डैंड्रफ का कारण बनने वाले फंगस के विकास को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप नारियल के तेल का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


नारियल तेल की मालिश: नारियल के तेल को हल्का गर्म करें और इसे अपने स्कैल्प पर लगाएं। 5-10 मिनट तक सर्कुलर मोशन में इससे मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 30 मिनट से एक घंटे के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नारियल का तेल और नींबू का रस: नारियल के तेल में नींबू के रस की कुछ बूंदें मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और मसाज करें। इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे माइल्ड शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नारियल का तेल और एलोवेरा: एलोवेरा जेल को नारियल के तेल के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और मसाज करें। इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे माइल्ड शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नारियल का तेल और टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों को नारियल के तेल में मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और मसाज करें। इसे 30 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे माइल्ड शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नारियल का तेल और बेकिंग सोडा: बेकिंग सोडा को नारियल के तेल के साथ मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इससे मसाज करें। इसे ठंडे पानी से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नारियल का तेल काफी चिकना हो सकता है और इसे धोना मुश्किल हो सकता है। इसे अच्छी तरह से धोने के लिए माइल्ड शैम्पू का इस्तेमाल करें। यदि आपके तेल के बाल हैं, तो आप नारियल के तेल का उपयोग करने से बचना चाहेंगे क्योंकि यह तेलीयता में और योगदान दे सकता है।


नींबू का रस


नींबू के रस में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं जो स्कैल्प पर बैक्टीरिया और फंगस के विकास को कम करने में मदद कर सकते हैं जो डैंड्रफ में योगदान कर सकते हैं। इसमें कसैले गुण भी होते हैं जो खोपड़ी पर तेल को कम करने में मदद कर सकते हैं। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए नींबू के रस का उपयोग करने के लिए एक स्प्रे बोतल में नींबू के रस और पानी को बराबर मात्रा में मिलाएं। मिश्रण को अपने स्कैल्प पर स्प्रे करें, इसमें मालिश करें और इसे गर्म पानी से धोने से पहले 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें। आप इसे हफ्ते में एक या दो बार कर सकते हैं।


नींबू का रस एक प्राकृतिक एंटीसेप्टिक और कसैला है जो खोपड़ी को एक्सफोलिएट करने और रूसी पैदा करने वाले फंगस के विकास को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप नींबू के रस का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


नींबू का रस और जैतून का तेल: दो बड़े चम्मच नींबू के रस में एक बड़ा चम्मच जैतून का तेल मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प में मालिश करें और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नींबू का रस और एलोवेरा: दो बड़े चम्मच नींबू के रस में दो बड़े चम्मच एलोवेरा जेल मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प में मालिश करें और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नींबू का रस और दही: दो बड़े चम्मच नींबू के रस में एक बड़ा चम्मच दही मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 30-45 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नींबू का रस और टी ट्री ऑयल: टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदों के साथ दो बड़े चम्मच नींबू का रस मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर मसाज करें और इसे 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे माइल्ड शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


नींबू का रस और बेकिंग सोडा: दो बड़े चम्मच नींबू के रस में दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं। इस मिश्रण को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि नींबू का रस काफी अम्लीय हो सकता है और अगर अधिक मात्रा में इस्तेमाल किया जाए या सीधे त्वचा पर लगाया जाए तो त्वचा में जलन हो सकती है। नींबू के रस को हमेशा पानी या अन्य सामग्री के साथ पतला करें, और इसे अपने स्कैल्प पर लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद करें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


मीठा सोडा


बेकिंग सोडा एक प्राकृतिक एक्सफोलिएंट है जो खोपड़ी से मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने और रूसी को कम करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ का इलाज करने के लिए बेकिंग सोडा का उपयोग करने के लिए एक चम्मच बेकिंग सोडा में पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और मसाज करें, फिर इसे 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे गर्म पानी से धो लें। आप इसे हफ्ते में एक बार कर सकते हैं।


बेकिंग सोडा, या सोडियम बाइकार्बोनेट, डैंड्रफ के इलाज के लिए एक प्रभावी और किफायती घरेलू उपाय है। यह मृत त्वचा कोशिकाओं को एक्सफोलिएट करने और स्कैल्प के पीएच को संतुलित करने में मदद करके काम करता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप बेकिंग सोडा का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


बेकिंग सोडा और पानी: पेस्ट बनाने के लिए पर्याप्त पानी के साथ एक बड़ा चम्मच बेकिंग सोडा मिलाएं। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 5-10 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


बेकिंग सोडा और सेब का सिरका: दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा में एक बड़ा चम्मच सेब का सिरका और पर्याप्त पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


बेकिंग सोडा और नींबू का रस: दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा में एक बड़ा चम्मच नींबू का रस और पर्याप्त पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


बेकिंग सोडा और नारियल का तेल: दो बड़े चम्मच बेकिंग सोडा में एक बड़ा चम्मच नारियल का तेल और पर्याप्त पानी मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और कुछ मिनट तक मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि बेकिंग सोडा काफी अपघर्षक हो सकता है और अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने या सीधे त्वचा पर लगाने पर त्वचा में जलन पैदा कर सकता है। बेकिंग सोडा को हमेशा पानी या अन्य सामग्री के साथ पतला करें, और इसे अपने स्कैल्प पर लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद करें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


लहसुन


लहसुन एक प्राकृतिक एंटी-फंगल और एंटी-बैक्टीरियल एजेंट है जो इसे पैदा करने के लिए जिम्मेदार खमीर के विकास को नियंत्रित करके डैंड्रफ का इलाज करने में मदद कर सकता है। डैंड्रफ के इलाज के लिए आप लहसुन का उपयोग कुछ तरीकों से कर सकते हैं:


  • लहसुन और शहद का मास्क: लहसुन की कुछ कलियों को पीसकर शहद के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे 10-15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर इसे हल्के शैम्पू से धो लें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।
  • लहसुन और नारियल का तेल: लहसुन की कुछ कलियों को नारियल के तेल में भूरा होने तक गर्म करें। तेल को छान लें और इसे कुछ मिनट के लिए अपने स्कैल्प में मसाज करें। इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले कम से कम एक घंटे या रात भर के लिए छोड़ दें। डैंड्रफ को नियंत्रित करने के लिए इस उपाय को हफ्ते में एक बार दोहराएं।
  • लहसुन और जैतून का तेल: लहसुन की कुछ कलियों को पीसकर जैतून के तेल में मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में दो बार इस उपाय का प्रयोग करें।
  • लहसुन और नींबू का रस: लहसुन की कुछ कलियों को पीसकर नींबू के रस में मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 20-30 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।
  • लहसुन और एलोवेरा: लहसुन की कुछ कलियों को पीसकर एलोवेरा जेल के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपने स्कैल्प पर लगाएं और इसे हल्के शैम्पू से धोने से पहले 30-40 मिनट के लिए छोड़ दें। रूसी को नियंत्रित करने के लिए सप्ताह में एक बार इस उपाय का प्रयोग करें।


यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि लहसुन काफी गुणकारी हो सकता है और अगर अधिक मात्रा में या सीधे त्वचा पर लगाया जाए तो त्वचा में जलन पैदा कर सकता है। लहसुन को हमेशा एक वाहक तेल या अन्य सामग्री के साथ पतला करें, और इसे अपने स्कैल्प पर लगाने से पहले त्वचा के एक छोटे से पैच का परीक्षण करें। यदि आप किसी प्रतिकूल प्रतिक्रिया का अनुभव करते हैं, तो उपयोग बंद करें और स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें।


 dandruff treatment tips at home in Hindi

 

यदि आप घर पर डैंड्रफ का इलाज करने में मदद के लिए सुझावों की तलाश कर रहे हैं, तो यहां कुछ अतिरिक्त सुझाव दिए गए हैं:


अपने स्कैल्प को साफ रखें: अपने बालों को नियमित रूप से धोने से स्कैल्प पर तेल और मृत त्वचा कोशिकाओं के निर्माण को रोकने में मदद मिल सकती है, जो डैंड्रफ में योगदान कर सकते हैं।


एक सौम्य शैम्पू का प्रयोग करें: एक ऐसे शैम्पू की तलाश करें जो विशेष रूप से रूसी या संवेदनशील स्कैल्प के लिए तैयार किया गया हो। कठोर शैंपू का उपयोग करने से बचें जो अपने प्राकृतिक तेलों की खोपड़ी को छीन सकते हैं।


गर्म पानी से बचें: गर्म पानी स्कैल्प के प्राकृतिक तेलों को खत्म कर सकता है, जो रूखेपन और डैंड्रफ में योगदान कर सकता है। इसकी जगह गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें।


मुलायम ब्रश का प्रयोग करें: सिर की त्वचा की धीरे-धीरे मालिश करने और मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने में मदद करने के लिए मुलायम बालों वाले ब्रश का उपयोग करें।


स्टाइलिंग उत्पादों से बचें: स्टाइलिंग उत्पाद जैसे हेयर जेल और हेयरस्प्रे स्कैल्प पर तेल और मृत त्वचा कोशिकाओं को फंसाकर रूसी में योगदान कर सकते हैं। हो सके तो इन उत्पादों के इस्तेमाल से बचें।


तनाव का प्रबंधन करें: तनाव प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर सकता है, जो खोपड़ी को फंगल और बैक्टीरिया के संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना सकता है जो रूसी का कारण बन सकता है। योग या ध्यान जैसी तनाव कम करने वाली गतिविधियों का अभ्यास करें।


स्वस्थ आहार खाएं: विटामिन बी और ई, जिंक, और ओमेगा -3 फैटी एसिड जैसे पोषक तत्वों से भरपूर आहार खाने से स्वस्थ बालों और खोपड़ी को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।


हाइड्रेटेड रहें: खूब सारा पानी पीने से स्कैल्प को हाइड्रेटेड रखने में मदद मिल सकती है और रूखेपन को रोका जा सकता है जो डैंड्रफ में योगदान दे सकता है।


व्यक्तिगत वस्तुओं को साझा करने से बचें: डैंड्रफ संक्रामक हो सकता है, इसलिए व्यक्तिगत वस्तुओं जैसे कंघी, ब्रश और टोपी को दूसरों के साथ साझा करने से बचें।


इन युक्तियों का पालन करके और चाय के पेड़ के तेल, नारियल के तेल, सेब साइडर सिरका, मुसब्बर वेरा, नींबू का रस, बेकिंग सोडा और लहसुन जैसे घरेलू उपचारों का उपयोग करके, आप प्रभावी रूप से घर पर डैंड्रफ का इलाज कर सकते हैं और एक स्वस्थ, परत मुक्त खोपड़ी का आनंद ले सकते हैं।



Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)
To Top