शाहरुख खान के संघर्ष की कहानी | shah rukh khan struggle story in hindi

0


शाहरुख खान का संघर्ष


"बॉलीवुड के बादशाह" के रूप में लोकप्रिय शाहरुख खान, भारत में सबसे प्रसिद्ध अभिनेताओं में से एक हैं। वह अपनी अनूठी अभिनय शैली, आकर्षक व्यक्तित्व और सभी उम्र के दर्शकों के साथ जुड़ने की क्षमता के लिए जाने जाते हैं। हालाँकि, उनकी सफलता आसानी से नहीं आई और आज वह स्टार बनने के लिए उन्हें कई बाधाओं को पार करना पड़ा। इस लेख में हम शाहरुख खान के संघर्ष की कहानी देखेंगे।


प्रारंभिक जीवन


शाहरुख खान का जन्म 2 नवंबर, 1965 को नई दिल्ली, भारत में हुआ था। उनके पिता, ताज मोहम्मद खान, एक भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता थे, और उनकी माँ, लतीफ़ फातिमा, एक मजिस्ट्रेट थीं। शाहरुख खान नई दिल्ली के राजेंद्र नगर पड़ोस में एक मध्यमवर्गीय परिवार में पले-बढ़े।


शिक्षा और प्रारंभिक कैरियर


शाहरुख खान ने अपनी स्कूली शिक्षा सेंट कोलंबा स्कूल, नई दिल्ली से पूरी की, और हंसराज कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में स्नातक की डिग्री हासिल की। अपनी ग्रेजुएशन करने के बाद शाहरुख, एक्टिंग करने और अपना करियर बनाने के लिए मुंबई आ गए।


मुंबई में, शाहरुख खान ने टेलीविजन अभिनेता के रूप में मनोरंजन उद्योग में अपना करियर शुरू किया। उन्होंने 1988 में "फौजी" शो के साथ टेलीविज़न पर अपनी शुरुआत की, जहाँ उन्होंने लेफ्टिनेंट अभिमन्यु राय की भूमिका निभाई। यह शो हिट रहा और उसे टेलीविजन दर्शकों के बीच पहचान मिली।


बॉलीवुड में संघर्ष


टेलीविजन पर लोकप्रियता हासिल करने के बाद, शाहरुख खान ने बॉलीवुड में अपना करियर बनाने का फैसला किया। उन्होंने 1992 में फिल्म "दीवाना" से बॉलीवुड में कदम रखा। फिल्म एक व्यावसायिक सफलता थी, और शाहरुख खान के प्रदर्शन को दर्शकों और समीक्षकों द्वारा समान रूप से सराहा गया था। हालाँकि, अपनी सफलता के बावजूद, उन्होंने बॉलीवुड में अच्छी भूमिकाएँ पाने के लिए संघर्ष किया।


शाहरुख खान संघर्ष के उस दौर से गुजरे जहां उन्हें फिल्मों में केवल छोटी और महत्वहीन भूमिकाएं ही ऑफर की जाती थीं। 90 के दशक की शुरुआत में उन्होंने कई फिल्मों में काम किया, लेकिन उनमें से ज्यादातर बॉक्स ऑफिस पर प्रभाव छोड़ने में असफल रहीं। हालांकि, उन्होंने उम्मीद नहीं छोड़ी और लगातार मेहनत करते रहे।


"डर" के साथ सफलता


शाहरुख खान को सफलता 1993 में मिली जब उन्होंने फिल्म "डर" में प्रतिपक्षी की भूमिका निभाई। फिल्म में उनके प्रदर्शन की व्यापक रूप से सराहना की गई, और चरित्र के चित्रण के लिए उन्हें आलोचनात्मक प्रशंसा मिली। फिल्म एक व्यावसायिक सफलता थी और शाहरुख खान को बॉलीवुड में एक प्रमुख अभिनेता के रूप में स्थापित किया।


"बाजीगर" और "दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे" से सफलता


"डर" की सफलता के बाद, शाहरुख खान ने कई सफल फिल्मों में मुख्य भूमिकाएँ निभाईं। 1993 में, उन्होंने फिल्म "बाज़ीगर" में अभिनय किया, जो एक और हिट थी। फिल्म में उनके प्रदर्शन ने उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पहला फिल्मफेयर पुरस्कार दिलाया।


1995 में, शाहरुख खान ने फिल्म "दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे" (DDLJ) में अभिनय किया, जो भारतीय सिनेमा की सबसे सफल फिल्मों में से एक बन गई। फिल्म एक ब्लॉकबस्टर हिट थी और 1000 से अधिक हफ्तों तक सिनेमाघरों में चली। फिल्म में शाहरुख खान के प्रदर्शन ने उन्हें अपना दूसरा सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का फिल्मफेयर पुरस्कार दिलाया।


निरंतर सफलता


डीडीएलजे की सफलता के बाद शाहरुख खान लगातार सफल फिल्मों में काम करते रहे। उन्होंने "कुछ कुछ होता है," "कभी खुशी कभी गम," "देवदास," "माई नेम इज खान" "चक दे! इंडिया," जैसी बड़ी फिल्मों में काम करने के बाद, खुद की प्रोडक्शन कंपनी शुरू की, और रेड चिलीज एंटरटेनमेंट की सह-स्थापना की।


निष्कर्ष


शाहरुख खान की सफलता का सफर कई लोगों के लिए प्रेरणा है।  अपने शुरुआती वर्षों में उन्हें कई संघर्षों और असफलताओं का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।  उनकी कड़ी मेहनत, समर्पण और प्रतिभा ने उन्हें भारतीय सिनेमा में सबसे सफल अभिनेताओं में से एक बनने में मदद की।  वह उन सभी के लिए प्रेरणा हैं जो मनोरंजन उद्योग में कुछ बड़ा करने का सपना देखते हैं।


Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)
To Top