Non Digital documents VS Digital documents in हिंदी

NON DIGITAL DOCUMENTS VS DIGITAL DOCUMENTS IN HINDI

आज हम बात करने वाले है के डिजिटल डाक्यूमेंट्स और नॉन डिजिटल  डाक्यूमेंट्स के बीच का अंतर है क्या आपको पता है के इन दोनों में क्या अंतर होता है?. समय तेजी से बदलता जा रहा है, आज हर एक चीज ऑनलाइन की तरफ अपना कदम बढ़ाती जा रही है, इंटरनेट की मदद से लोगो की काफी हद तक समस्या कम हो गयी है, अब आप अपने घर पर बैठे बैठे कोई भी चीज देख सकते है और कोई भी फाइल ट्रांसफर कर सकते है, इंटरनेट ने ऑफिस के कामो में बहुत ज्यादा हेल्प की है आज आपको एक डिपार्टमेंट से दूसरे डिपार्टमेंट फाइल को पहुंचने के लिए खुद जाने की जरुरत नहीं होती, बल्कि ईमेल के द्वारा फाइल को आराम से ट्रांसफर किया जा सकता है, सिर्फ कुछ सेकण्ड्स में, जिससे काफी पैसा और टाइम बचता है। 

आप डिजिटल के बारे में तो जानते ही होंगे, अगर नहीं जानते तो हम आपको बता देते है के डिजिटल का मतलब क्या होता है, डिजिटल एक इलेक्ट्रॉनिक टूल या सिस्टम है जिसमे ऑनलाइन डाटा स्टोर होता है, जिसमे ऑनलाइन गेम, सोशल मीडिया, मल्टी मीडिया शामिल है। दो या दो से अधिक स्थानों को या डिवाइस को इंटरनेट से जोड़ना जिसमे इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव के द्वारा इनफार्मेशन को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजा जा सकता है, जैसे आप ऑनलाइन डाक्यूमेंट्स रीड करते है पर वो आप अपने कंप्यूटर या फ़ोन की स्क्रीन पर देखते है हार्ड कॉपी पर नहीं देखते है, उसे ही डिजिटल डाटा  बोला जाता है. डिजिटली हम किसी भी डाटा को ट्रांसफर कर सकते है। 

NON DIGITAL DOCUMENTS

नॉन डिजिटल डाक्यूमेंट्स का मतलब होता है, हार्ड कॉपी डाक्यूमेंट्स, जो पेपर पर प्रिंट किया जाता है और उसको स्टोर करने के लिए हार्ड फाइल की जरुरत पड़ती है, घर में आपनी डाक्यूमेंट्स की फाइल जरूर बनाई होगी, जो पेपर के रूप में होती है, और उसे आप आपने साथ कहीं भी ले जा सकते हो, इस का फायदा ये होता है के इन डाक्यूमेंट्स को आप अपने पास रख सकते है, अपनी अलमारी में सफेली स्टोर कर सकते है, जिसका उपयोग आप बादमे कभी भी कर सकते है। 

नॉन डिजिटल डाक्यूमेंट्स आपको ये रहत देता है के आपके डाक्यूमेंट्स आपके पास हार्ड कॉपी में है जिसका इस्तेमाल आप अपने हिसाब से कर सकते है, अगर आप चाहे इनको डिजिटली भी इस्तेमाल कर सकते है, आपको बस अपने डाक्यूमेंट्स को SCAN करना है,  जिससे आप किसी भी डाक्यूमेंट्स को कही भी ट्रांसफर कर सकते है, जिसमे आपका टाइम बचेगा, हमेशा याद रखे बहुत से ऐसे डॉक्युमेंट्स होते है जो डिजिटली ही जेनेरेट होते है, जरूर याद रखे के उस डिजिटल डाक्यूमेंट्स का बैकअप जरूर बनाए और हार्ड कॉपी में जरूर नकलवाए, आपको बहुत सी जगह पर डाक्यूमेंट्स की हार्ड कॉपी सबमिट करनी होती है। 

अगर आप किसी स्कूल या कॉलिज में एडमिशन लेने वाले है तो आपको वहा पर अपने डाक्यूमेंट्स की हार्ड कॉपी ही सबमिट करनी होती है यह पर आप डिजिटल डाक्यूमेंट्स को जमा नहीं कर सकते, नॉन डिजिटल डाक्यूमेंट्स  एक पक्का साबुत होता है, जो आपकी पहचान को बताता है, इसलिए ये आपके लिए बेहद जरुरी हो जाता है के आप अपने सारे डाक्यूमेंट्स को हार्ड कॉपी में जरूर बनाए। 

ADVANTAGES 

  • हार्ड कॉपी में स्टोर कर सकते है 
  • किसी भी एडमिशन के लिए प्रिंटेड डाक्यूमेंट्स ही सबमिट होते है। 
  • किसी भी जगह सबमिट कर सकते है 
  • अपने पास स्टोर कर सकते है 
  • जितनी चाहे उतनी कॉपी प्रिंट कर सकते है 

DISADVANTAGES 

  • स्टोरेज के लिए जगह की जरुरत पड़ती है 
  • डाक्यूमेंट्स को इंसान के द्वारा ही सबमिट किया  जाता है 
  • डाक्यूमेंट्स ख़राब होने का खत्तरा रहता है 
  • डाक्यूमेंट्स प्रिंट करने में टाइम और पैसे काफी खर्च होते है 
  • एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने के लिए टाइम और पैसे खर्च होते है 

APLICATION 

  • स्कूल और कॉलेज एडमिशन के लिए इस्तेमाल होते है 
  • ऑफिस में जरुरी डाटा फाइल को प्रिंट करके स्टोर करने जरुरी है 
  • जॉब के लिए प्रिंटेड हार्ड कॉपी की जरुरत होती है
  • डिजिटल डाक्यूमेंट्स को हार्ड कॉपी में बनाना जरुरी है 

DIGITAL DOCUMENTS 

डिजिटल डाक्यूमेंट्स इलेक्ट्रॉनिक डाक्यूमेंट्स होते है, जो हार्ड कॉपी में नहीं होते, ये सिर्फ आपके फ़ोन और कंप्यूटर में स्टोर रहते है और इनको आप उनकी स्क्रीन पर ही देख सकते है, अगर आप चाहे तो इनको पेपर पर प्रिंट करा सकते है और अपनी फाइल में रख सकते है, डिजिटल डाक्यूमेंट्स हमे काफी हेल्प करते है, आप अपने डाक्यूमेंट्स को डिजिटली ट्रांसफर कर सकते है जिससे आपके पैसे और मेहनत दोनों बचेगी। इंटरनेट से डिजिटल डाटा को ट्रांसफर करना संभव हो पाया है, अगर आप किसी भी देश में हो और आपको हजारो मील तक कोई इनफार्मेशन पहुचनी है तो आप सेकंड में अपनी उस इनफार्मेशन को पंहुचा सकते है। 

डिजिटल डाक्यूमेंट्स अलग अलग प्रकार के होते है, जैसे आपने ऑफिस में बहुत सारी फाइल वाले डाक्यूमेंट्स देखें होंगे, या फिर किसी से बात करना या कोई फोटो सेंड करना, अप्लीकेशन ट्रांसफर करना ईमेल भेजना इत्यादि, ये सब डिजिटल डाटा या डाक्यूमेंट्स का हिस्सा है, आज की दुनिया डिजिटल बन चुकी है, हर कोई एक दूसरे से जुड़ा हुआ है. डिजिटल की मदद से आप अपनी बातो को किसी भी जगह सेकंड में पंहुचा सकते हो जिससे बहुत सारी समस्या हल हो जाती है. पहले के ज़माने में लोगो को इनफार्मेशन पहुंचने के लिए खुद सफर करना होता था, जिसमे टाइम, मेहनत और काफी पैसे खर्च होते थे। 

आपकी कंप्यूटर या फ़ोन की स्क्रीन पर जो भी डाक्यूमेंट्स आप देखते है और जिसको इलेक्ट्रानिकली एक जगह से दूसरी जगह पर ट्रांसफर किया जाता है उसे डिजिटल डाटा या डाक्यूमेंट्स होते है, पर डिजिटल डाक्यूमेंट्स हर जगह काम नहीं आते जैसे के हमने आपको ऊपर लेख में बताया है, इनफार्मेशन को तेजी से पहुंचने के लिए डिजिटल सिस्टम बहुत हेल्पफुल है, जैसे - आपको अपने किसी दोस्त को कोई डाक्यूमेंट्स जैसे- फोटो, वीडियो, बुक PDF, QUESTION पेपर, अप्लीकेशन, ईमेल इत्यादि जैसे डाक्यूमेंट्स को ट्रांसफर करने के लिए बहुत मददगार है। 

DIGITAL DOCUMENTS ADVANTAGES 

  • एम्प्लॉई की प्रोडक्टिविटी को बढ़ाता है 
  • बड़े आराम से किसी भी फाइल को एक्सेस कर सकते है 
  • टाइम, पैसे और मेहनत बचती है 
  • बड़े आराम से किसी भी जगह ट्रांसफर किया जा सकता है 
  • डाक्यूमेंट्स बैकअप का ऑप्शन होता है 
  • इनफार्मेशन को सेकण्ड्स में पंहुचा देता है 
  • डाक्यूमेंट्स को एडिट करने का ऑप्शन मिलता है 

DIGITAL DOCUMENTS DISADVANTAGES 

  • हर जगह काम नहीं आ सकते 
  • डाटा लॉस होने का खतरा होता है 
  • इनफार्मेशन मिक्स होने की समस्या रहती है 
  • वायरस की मौजूदगी से डाटा बैकअप करने में समस्या रहती है 
  • ज्यादा काम्प्लेक्स होते है 
  • डाटा ट्रांसफर के लिए इंटरनेट की आवशकता पड़ती है
  • फेक इनफार्मेशन का खतरा रहता है 

APPLICATION 

  • ऑफिस डाटा ट्रांसफर 
  • कंपनी डाटा ट्रांसफर 
  • बुक ट्रांसफर 
  • सोशल मीडिया पोस्ट 
  • ईमेल मेसेज 
  • अप्लीकेशन डाउनलोड 
  • ऑनलाइन फॉर्म भरना 

          

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ