Swami Vivekananda ki Story/biography & Struggles Life in Hindi

0

 





स्वामी विवेकानंद की कहानी, स्वामी विवेकानंद (1863-1902) एक आध्यात्मिक नेता और भारतीय पुनर्जागरण में एक प्रमुख व्यक्ति थे, जिसने 19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत में भारतीय कला, संस्कृति और आध्यात्मिकता का पुनरुद्धार देखा। उनका जन्म कलकत्ता, भारत में नरेंद्रनाथ दत्ता के रूप में हुआ था, और वे विश्वनाथ दत्ता, एक सफल वकील और भुवनेश्वरी देवी, एक धर्मनिष्ठ हिंदू के पुत्र थे।


प्रारंभिक जीवन और शिक्षा:


नरेंद्रनाथ साहित्य, संगीत और दर्शन में गहरी रुचि के साथ एक असामयिक बालक थे। वे पढ़ने के बहुत शौकीन थे और उन्होंने कलकत्ता पब्लिक लाइब्रेरी में कई घंटे बिताए। आठ साल की उम्र में, उन्हें ईश्वर चंद्र विद्यासागर के महानगरीय संस्थान में नामांकित किया गया, जहाँ उन्होंने आधुनिक शिक्षा प्राप्त की। हालाँकि, उनका स्वाभाविक झुकाव आध्यात्मिकता की ओर था, और वे घंटों ध्यान लगाने और जीवन के रहस्यों के उत्तर खोजने में व्यतीत करते थे।


एक किशोर के रूप में, नरेंद्रनाथ ब्रह्म समाज के लिए आकर्षित हुए, एक सुधारवादी आंदोलन जिसने हिंदू धर्म को पुनर्जीवित करने और अपनी अंधविश्वास प्रथाओं से छुटकारा पाने की मांग की। वे ब्रह्म नेता, केशब चंद्र सेन के शिष्य बन गए और आंदोलन की सामाजिक और धार्मिक गतिविधियों में भाग लिया। उन्होंने जनरल असेंबली इंस्टीट्यूशन (अब स्कॉटिश चर्च कॉलेज के रूप में जाना जाता है) में पश्चिमी दर्शन और साहित्य का भी अध्ययन किया।


आध्यात्मिक खोज:


ब्रह्म समाज से जुड़े होने के बावजूद नरेंद्रनाथ इसकी शिक्षाओं से पूरी तरह संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने महसूस किया कि इसके नेताओं में हिंदू धर्म की सच्ची समझ का अभाव था और वे पश्चिमी विचारों से बहुत प्रभावित थे। उन्होंने आध्यात्मिक शिक्षकों की तलाश शुरू कर दी जो उन्हें आत्मज्ञान के मार्ग पर मार्गदर्शन कर सकें।


1881 में, नरेंद्रनाथ की मुलाकात श्री रामकृष्ण परमहंस से हुई, जो एक रहस्यवादी और देवी काली के भक्त थे। श्री रामकृष्ण ने नरेंद्रनाथ की आध्यात्मिक क्षमता को पहचाना और उन्हें अपना शिष्य बना लिया। नरेंद्रनाथ को शुरू में श्री रामकृष्ण की शिक्षाओं पर संदेह था, लेकिन समय के साथ, वे उन्हें अपना गुरु और गुरु मानने लगे।


1886 में श्री रामकृष्ण की मृत्यु के बाद, नरेंद्रनाथ और उनके साथी शिष्यों के एक समूह ने एक मठवासी व्यवस्था बनाई, जिसे उन्होंने रामकृष्ण मिशन कहा। मिशन का लक्ष्य वेदांत के संदेश को फैलाना था, एक ऐसा दर्शन जो सभी प्राणियों की एकता और सभी चीजों में एक दिव्य सार के अस्तित्व को सिखाता है।


पश्चिम की यात्रा:


1893 में, नरेंद्रनाथ (जिन्हें अब स्वामी विवेकानंद के नाम से जाना जाता है) ने विश्व धर्म संसद में भाग लेने के लिए शिकागो की यात्रा की, जो दुनिया भर के आध्यात्मिक नेताओं की एक सभा थी। उन्हें हिंदू धर्म पर बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था और वह एक त्वरित सनसनी थे, उन्होंने अपनी वाक्पटुता, बुद्धि और गहरी आध्यात्मिकता के साथ अपने दर्शकों के दिलों और दिमाग पर कब्जा कर लिया।


स्वामी विवेकानंद की पश्चिम यात्रा उनके जीवन और भारतीय आध्यात्मिकता के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ थी। वह हिंदू धर्म और वेदांत के प्रवक्ता बन गए, और उनके व्याख्यान और लेखन ने पश्चिमी लोगों की भारतीय संस्कृति और धर्म के बारे में कई भ्रांतियों को दूर करने में मदद की।


भारत वापसी:


स्वामी विवेकानंद 1897 में भारत लौटे और अपने जीवन के शेष वर्ष वेदांत के संदेश को फैलाने और रामकृष्ण मिशन के निर्माण में बिताए। उन्होंने पूरे भारत में बड़े पैमाने पर यात्रा की, व्याख्यान दिए और वेदांत के अध्ययन और योग के अभ्यास के लिए केंद्र स्थापित किए।


1899 में, स्वामी विवेकानंद ने कोलकाता के पास गंगा नदी के तट पर एक मठ और आध्यात्मिक केंद्र बेलूर मठ की स्थापना की। बेलूर मठ रामकृष्ण मिशन का मुख्यालय और भारतीय आध्यात्मिकता के पुनरुत्थान का प्रतीक बन गया।


संघर्षों (Struggles)


स्वामी विवेकानंद ने अपने पूरे जीवन में व्यक्तिगत और आध्यात्मिक दोनों तरह के कई संघर्षों का सामना किया।

उनके शुरुआती संघर्षों में से एक उनके पिता की मृत्यु थी जब वह सिर्फ 21 साल के थे। इसने उन्हें अपने परिवार के प्रति जिम्मेदारी की भावना छोड़ दी, और उन्हें उनका समर्थन करने के लिए विभिन्न नौकरियों पर काम करना पड़ा। इसके बावजूद, उन्होंने अपनी आध्यात्मिक खोज जारी रखी और ध्यान और अध्ययन के लिए कई घंटे समर्पित किए।


स्वामी विवेकानंद के लिए एक और महत्वपूर्ण संघर्ष एक सच्चे आध्यात्मिक शिक्षक की उनकी खोज थी। वह ब्रह्म समाज की शिक्षाओं से संतुष्ट नहीं थे, और शुरू में उन्हें श्री रामकृष्ण की शिक्षाओं पर संदेह था। श्री रामकृष्ण को अपने गुरु के रूप में पूरी तरह से स्वीकार करने और उन्हें कई साल लग गए वेदांत के मार्ग पर पूरी तरह से खुद को समर्पित करने में।


स्वामी विवेकानंद की पश्चिम यात्रा भी बिना संघर्ष के नहीं रही। उन्हें कई चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिनमें भाषा अवरोध, सांस्कृतिक अंतर और वित्तीय कठिनाइयाँ शामिल हैं। स्वीकृति प्राप्त करने और हिंदू धर्म और वेदांत के प्रवक्ता के रूप में गंभीरता से लिए जाने के लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी पड़ी।


अंत में, स्वामी विवेकानंद ने अपने स्वयं के स्वास्थ्य और शारीरिक सीमाओं के साथ संघर्ष किया। वह अस्थमा और सांस की अन्य समस्याओं से पीड़ित थे, जिससे उन्हें लंबी अवधि के लिए यात्रा करना और व्याख्यान देना मुश्किल हो गया था। इसके बावजूद, उन्होंने खुद को आगे बढ़ाना जारी रखा और वेदांत के संदेश को फैलाने के अपने मिशन में खुदको पूरी तरह से समर्पित कर दिया। 

इन सभी संघर्षों के माध्यम से, स्वामी विवेकानंद अपने आध्यात्मिक पथ और वेदांत के संदेश को फैलाने के अपने मिशन के प्रति अपनी वचनबद्धता में दृढ़ रहे। उनके समर्पण और दृढ़ता ने दुनिया भर के अनगिनत लोगों को खुद को और अपने आसपास की दुनिया को गहराई से समझने के लिए प्रेरित किया है।




Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)
To Top