hindi kahaniya | हेरे मोतियों की बारिश

0


 हेरे मोतियों की बारिश 


एक गाँव में एक पंडित रहता था वो, वो बहुत गरीब था, गाँव के बच्चों को पढ़ाता अपना गुज़रा करता था, जिससे उसका मुश्किल से गुज़रा होता था लेकिन हमें पंडित को एक चमत्कारी मंत्र आता था, जिसको पढ़ने के बाद आसमान से हीरो की बारिश हो गई थी। लेकिन हमें मंत्र को पढ़ने का एक समय था वो मंत्र ता भी काम करता था कब चांद और सितारों का एक योग बनता था, वो योग साल में एक बार ही बनता था सिर्फ कुछ ही मिंटो के लिए, ये बताना मुश्किल है के वो योग किस वक्त बनेगा, पंडित के इतने शक्ति शाली मंत्र जाने के बाद भी वो गरीब था, वो मंत्र को पढ़ने के लिए आसमान की या देखता रहता था।


अपनी गरीबी से परेशान होकार ने गांव से निकलकर सह जाने का फेसला किया, उसके साथ उसका एक शिष्य भी चल दिया, उसका शिष्य अनात था पंडित के अलावा उसका कोई नहीं था, गांव से काई दूर आने के बाद उन्हें घने जंगलो से गुजरा हमें जंगल में डाकू का बसेरा था, वे इंसान को देखते ही इस्तेमाल लूट लेते या मार डालते थे। या यही काम पंडित के साथ भी हुआ, डाकू ने उन दोनों को जंगल में पकड़ लिया, जिसके बाद गाकुओ ने उनके सामन को खोला या उनकी तलाशी ली। लेकिन उन्हें कुछ भी नहीं मिला, जिसके बाद डाकू के सरदार को गुस्सा आया, उसने पंडित को पेड से बंद दिया या बोला के मुझे तुझे ऐसे नहीं चोरूंगा में तेरे घरवालो से पैसे वसूल करूंगा, अगर तुझे अपनी जान प्यारी है तो अपने चेले से 500 रुपये लेन को बोल, पंडित बहुत दारा हुआ था, उसके चेले ने उसे खा के गुरुजी ऐप चिंता ना करे में गांव जाकर पैसे का इंतजार करता हूं, लेकिन आप किसी को भी मंत्र के बारे में मत बताना वरना आपको ये हमेशा के लिए बंदी बना लेंगे।


चेला गांव बहुत गया, उस वक्त सर्दीयो के दिन थे, मौसम भूत ठंडा था, जिस कारण से पंडित पेड़ से बंधा कांप रहा था, और खुदको बचने के लिए आसमान से दुआ मांगूंगा, कुछ समय बाद पंडित ने देखा के गधे में चांद और सितारों का योग बना हुआ है जो मंत्र पढ़ने का सबसे सही स्माइ था, लेकिन पंडित सोच रहा था के अगर में मंत्र पढ़िए तो डाकू सारा पेसा लूट लेंगे या मुझे कुछ नहीं मिलेगा, लेकिन फिर उससे पहले अपनी जान बचना सही समझा, पंडित ने डाकुओं को से खा के में एक मंत्र जनता हूं जिससे अस्समन से हीरो की बारिश होगी, लेकिन उसके लिए मुझे छोड़ना होगा, ये बात सुनकर सब हंसने लगे, लेकिन फिर अनहोन के बारे में इसकी बात करने में हर्ज ही क्या है , अनहोन पंडित को पेड़ से खोल दिया जिसके बाद पंडित जमीन पर बेठकर वो मंत्र पढने लगा जिसके बाद सच्चे आसमान से हीरो की बारिश होने लगी, ये देख कर डाकू का सरदार खुश हो गया, इतने में वह पर दूसरे दाल के डाकू भी आ गए, अनहोन बंदूक दिखाकर बोला के ये सारे यहां हम हवाला कर दो वरना सब मारे जाओगे।


डाकुओं के सरदार ने दूसरे सरदार से खा के तुम इस पंडित को अपने साथ ले जाओ इसको एक मंत्र आता है जिसे आसमान से हीरो की बारिश होने लगती है, जिसको सुना सरदार ने पंडित से फिर से बारिश कारवाने को खा, लेकिन पंडित ने खा के अब मुहूर्त निकल चूका है अब बारिश नहीं हो सकती, ये सुनकर सरदार को गुस्सा आ गया और पंडित को मार डाला,


अब दोनो दाल एक दूसरे को मार कात रहे लेकिन आखिर में मैं दोनो सरदार ही बचे पाये पूर्ववत के बीच काफी देर तक लड़ाई चलती रही, काफी देर के बाद वे दोनो ठक गए और सोचने के क्यों न हम इस खजाने को आधा आधा बाथ ले , दोनो एक बात पर सहमत थे, उन्हें एक पतली में सारे जवाहरात को इकाथा किया, लड़ाई के बाद अब वे भूत भुके हो चुके थे, उनको सोचा खाना खाने के बाद आराम से खजाने वो देंगे, एक बस्ती से खाना लेने जाएंगे और दूसरा खजाने की रक्षा करेगा उनसे एक डाकू जिसका नाम फंगा सिंह था वे बस्ती की और खाना लेने चला गया, उसके जाने के बाद दूसरा डाकु जिसका नाम मोहर सिंह था उसे सोचने के फंगा सिंह को रास्ते से हटाने का अच्छा मोका है, जैसी ही फंगा सिंह आएगा में पीछे से तलवार चला कर उसे मार दूंगा, फिर सारा खजाना मेरा।


फंगा सिंह भी बस्ती से खाना लाते स्माइ सोच रहा के क्यों ना मोहर सिंह को झटके से हटा जाए, हमें खाने में जहर मिला दिया, जब वो जंगल में पोचा तो मोहर सिंह ने पीछे से फंगा सिंह की और हमला कर दिया या यूज करें मार दिया, अब मोहर सिंह खुश होकर आराम से बेचार खाना खाने लगा, जिसके बाद जहर से वो भी मर गया, जब पंडित का चेला गांव से वापस लोटा तो उसे देखा के सब मर चुके हैं वो पंडित से पास गया और जोर जोर से रोने लगा। अब वो हीरो से भरा खजाना हमें चेले का था।


सीख: इस कहानी से हमें ये शिक्षा मिलती है के लालच से सर्वनाश ही तोता है

 

Ek gaon mein ek pandit rehta tha vo, vo bahut gareeb tha, gaon ke bachon ko pdhakar apna guzara karta tha, jisse uska mushkil se guzara hota tha lekin us pandit ko ek chamatkari mantra aata tha, jisko padhne ke baad aasmaan se hero ki barish hone lagti thi. Lekin us mantr ko padne ka ek samye tha vo mantra ta bhi kaam karta tha kab chand aur sitaron ka ek yogh banta tha, vo yogh saal mein ek baar hee banta tha sirf kuch hee minto ke liye, ye batana mushkil hai ke vo yogh kis waqt banega, pandit ke itne shakti shali mantra janne ke baad bhi vo garib tha, vo us mantr ko padne ke liye assmaan ki or dekhta rehta tha. 


Apni garibi se pareshaan hokar usne gaon se nikalkar seher jane ka fesla kiya, uske saath uska ek shishye bhi chal diya, uska shishye anat tha pandit ke alava uska koi nahi tha,gaaon se kai dur aane ke baad unhe ghane janglo se gujrna pada us jungle me dakuo ka basera tha, ve insaan ko dekhte hee use loot lete the or maar dalte the. Or yahi kaam pandit ke saath bhi hua, dakuo ne un dono ko jangal me pakad liya, jiske baad gakuo ne unke saaman ko khola or unki talashi lee. Lekin unhe kuch bhii nahi mila, jiske baad daaku ke sardaar ko gussa aagya, usne pandit ko ped se bandh diya or bola ke me tujhe ese nahi chorunga mein tere gharvalo se pese vasul karunga, agar tujhe apni jaan pyari hai to apne chele se 500 rupye lane ko bol, pandit bahut dara hua tha, uske chele ne usse kha ke guruji app chinta naa kare me gaon jakar paise ka intejaam karta hu, lekin aap kisi ko bhi mantr ke bare me mat batana varna apko ye hamesha ke liye bandi bna lenge. 


Chela gaon lot gya, us vakt sardiyo ke din the, mosam bhut thanda tha, jis karan se pandit ped se bandha kaanp raha tha, aur khudko bachane ke liye assmaan ki tarf dekh kar bhagvaan se dua mangne lga, kuch samye baad pandit ne dekha ke assman me chand aur sitaro ka yogh bana hua hai jo mantr padhne ka sabse sahi smye tha, lekin pandit soch raha tha ke agr mene mantr padhiya tho daaku saara pesa loot lenge or mujhe kuch nahi milega, lekin fir usne phele apni jaan bachana sahi samjha, pandit ne dakuo ko se kha ke mein ek mantr janta hu jisse assmann se hero ki barish hone lagegi, lekin uske liye mujhe chodhna hoga, ye baat sunkar sab hasne lage, lekin fir unhone socha ke iski baat manne me harz hee kya hai, unhone pandit ko ped se khol diya jiske baad pandit zameen par bethkar vo mantr padhne laga jiske baad sachme asmaan se hero ki barish hone lagi, ye dekh kar dakuo ka sardaar khush ho gya, itne me vha par dusre dal ke daaku bhi aagye, unhone bandook dikhakar bola ke ye saare heere hamare hawale kar do varna sab mare jaoge.


Dakuo ke sardar ne dusre sardaar se kha ke tum is pandit ko apne saath le jao isko ek mantr aata hai jisse asmaan se hero ki barish hone lagti hai, jisko sunkar sardaar ne pandit se firse barish karvane ko kha, lekin pandit ne kha ke ab muhurat nikal chuka hai ab barish nahi ho sakti, ye sunkar sardaar ko gussa aa gaya aur usne pandit ko maar dala, 


Ab dono dal ek dusre ko maar kaat rahe the lekin akhir me dono sardaar hee bach paye undone ke beech kafi der tak ladai chalti rhi, kaafi der ke baad ve dono thak gaye aur unhone socha ke kyo na hum is khajane ko aadha aadha baath le, dono ek baat par sehmat the, unhone ek patli mein saare jawaraat ko ikaatha kiya, ladai ke baad ab ve bhut bhooke ho chuke the, unhone socha khana khana khane ke baad aram se khajane vo batenge, ek basti se khana lene jayega or dusra khajane ki raksha karega unme se ek daaku jiska naam funga singh tha ve basti ki aur khana lene chala gya, uske jaane ke baad dusra daaku jiska naam mohar singh tha usne socha ke funga singh ko raste se hatane ka achha moka hai, jese hee funga singh aayega me peeche se talvaar chala kar use maar dunga, fir saara khazana mera.


Funga singh bhi basti se khana laate smye soch raha the ke kyo naa mohar singh ko rashte se hataya jaye, usne us khane me zeher mila diya, jab vo jungal me pocha to mohar singh ne peeche se funga singh ki aur hamla kar diya or use maar diya, ab mohar singh khush hokar aram se bethkar khana khane laga, jiske baad zeher se vo bhi mar gya, jab pandit ka chela gaon se vapas lota to usne dekha ke sab mar chuke hai vo pandit se pass gya aur jor jor se rone laga. Ab vo heero se bhara khajana us chele kaa tha.


seekh : is kahani se hume ye shiksha milti hai ke lalach se sarvanash hee tota hai   


Tags

Post a Comment

0Comments

Post a Comment (0)
To Top