22 साल की उम्र में IAS बनकर इतिहास रचा | पहली ही बार में सिविल सर्विस की परीक्षा पास की | वैभव गोंडाने की SUCCESS STORY

VAIBHAV GONDANE  जिन्होंने 22 साल की उम्र में IAS बनकर इतिहास में अपना नाम दर्ज कर लिया, चलिए जानते है कैसे ? सक्सेस स्टोरी 

UPSE सिविल सर्विस परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक मानी जाती है जिसमे लाखो कैंडिडेट्स भाग लेते है पर जिसमे से कुछ ही लोगो का हो पता है ऐसा क्यों होता है, क्योकि इस परीक्षा से लिए काफी सालो की मेहनत लगती है और इसी कारण की वजह से बहुत सारे कैंडिडेट्स पहेली बार में पास नही कर पाते लेकिन कुछ कैंडिडेट्स ऐसे भी है जो जी तोड़ मेहनत करने से पीछे नही हटते है जो अपने काम में दिन रात एक कर देते है और परीक्षा को पहेली बार में ही पास करने की हिम्मत रखते है। उन्ही कैंडिडेट्स में से एक वैभव गोंडाने है जो महाराष्ट्र के रहने वाले है। जिन्होंने पहेली बार में (UPSE) की सिविल सर्विस परीक्षा को पास करके इतिहास रचा है। 

आज वैभव एक IAS अफसर है और हम उनकी मेहनत का अंदाजा उनकी उम्र और पहेली बार में परीक्षा पास करने से लगा सकते है। 2018 में ALL INDIA RANK में वैभव ने 25 रैंक प्राप्त की और 22 की उम्र में IAS बन गए। 

वैभव गोंडाने ने क्या कहा ? जानिए। .... 

वैभव बताते है के उन्होंने सिविल सर्विस परीक्षा के लिए 10 वी कक्षा से ही तैयारी करनी शुरू कर दी थी और काफी साल तक मेहनत से तैयारी करने के बाद जब परीक्षा दी तो उन्होंने पहेली बार में ही परीक्षा को पास कर लिया। वैभव कहते है के सेल्फ मोटीवेशन उनकी सफलता का आधार है जिसकी वजह से वह मेहनत करने से पीछे नही हटे उनका कहना है के सेल्फ मोटीवेशन से उनको बहुत मदद मिली, वैभव अपने EXPERIENCE के आधार पर उन बाकी कैंडिडेट्स जो सिविल सर्विस की तैयारी कर रहे है उनसे कहना चाहते है सेल्फ मोटिवेशन और पढ़ाई से परीक्षा को पास किया जा सकता है। 

इस तरीके से की थी वैभव ने IAS की तयारी

वैभव मानते है के अगर हम अच्छे रिजल्ट्स चाहते है तो हमे पढ़ने के तरीके में थोड़ा चेंज लाना होगा वह कहते है के अगर हम पढ़ाई को दो हिस्सों में बाट दे जैसे - 50 % तैयारी रीडिंग से करे और 50 % तैयारी नोट्स, अखबार, मॉक टेस्ट के जरिये, तो हम ज्यादा बेहतर तरीके से तैयारी कर पाएंगे और अच्छे रिजल्ट ला सकेंगे। 

 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ