हम खर्राटे क्यों लेते है ? कारण, लक्षण, समस्याए, उपाए

हम खर्राटे क्यों लेते है ?

आज हम बात करने वाले है के हम खर्राटे क्यों लेते है या हमे खर्राटे क्यों आते है ? ये बात तो सच है के दुनिया का हर इंसान कभी न कभी खर्राटे जरूर लेता है। पर इसके पीछे का सिंटीफिक कारण बहुत कम लोग जानते है के आखिर ऐसा क्यों होता है, पहले हम बात कर लेते है के खर्राटे होते क्या है दरअसल खर्राटे एक तरह की आवाज है जो हमारे गले से आती है, जब हवा सांस के द्वारा हमारे गले से बाहर की और निकलती है तो हमारे गले में ऊतक (TISSUES) कांपने लगते है जिससे खर्राटे की आवाज पैदा होती है। 

खर्राटे आना वैसे तो आम बात माना जाता है पर किसी किसी में ये पुरानी समस्या भी होती है। हमे ज्यादा खर्राटे गहरी नींद में आते है। क्योकि गहरी नींद में शरीर एक दम शांत होता है हमारा दिमाग पूरी तरह से शांत हो जाता है जिसे पूरा शरीर ढीला हो जाता है जिससे शरीर पर कोई कण्ट्रोल नहीं रहता उस केस में गले के ऊतक कांपना शुरू कर देते है वैसे तो ये कोई ज्यादा समस्या वाली बात नहीं है। पर अगर आपको लेटते ही खर्राटे आने लगते है तो आपको एक बार डॉक्टर को इस बारे में जरूर दिखाना चाहिए क्योकि ऐसी बहुत सी समस्याए है जो खर्राटों का कारण बनती है और उनसे और भी गंभीर दिक्कत का सामना आपको करना पड़ सकता है। 

कारण 

  • जब हम सोने के लिए  बिस्तर पर जाते है और हलकी नींद से गहरी नींद की तरफ जाने लगते है तो हमारी गले और जीब की मश्पेसिया शांत हो जाती है और जब सांस के द्वारा हवा मुँह के अंदर आती है तो वो मश्पेसिया कंपन करना शुरू हो जाती है।
  • शराब या ध्रूमपान, खासी जुखाम, जीब का मोटा होना, नाक बंद होना, वजन का बढ़ना, एलर्जी होना, गले में कफ बनने की वजह से भी खर्राटे आ सकते है।  
  • हम जितनी गहरी सांस लेंगे उतनी ही हवा हमारे अंदर जाएगी और मश्पेसिया ज्यादा कंपन करेगी जिससे खर्राटों की आवाज ओर बढ़ जाएगी। 
  • ज्यादा वजन वाले लोगो के गले में ज्यादा ऊतक (tissues) जमा हो जाते है जिसमे हवा की वजह से कंपन बढ़ जाता है और खर्राटों की आवाज ज्यादा आती है 
  • ज्यादा शराब पीने वाले लोग में भी खर्राटे की समस्या ज्यादा बढ़ती है। सोने से पहले ज्यादा अल्कोहल का सेवन करने से गले की माश्पेशिया शांत हो जाती है जिससे वह अधिक हवा को रोकने वाली शक्ति को कम कर देती है। 
  • अगर नाक की समस्या है तो आपको भी खर्राटे आ सकते सकते है इसमें  नाक के बजए मुँह से सांस लेना पढ़ सकता है जिससे हवा ज्यादा आपके अंदर जाती है। 
  • पुराने टॉन्सिल की समस्या से गले की माश्पेशिया कमजोर हो सकती है जिसे हवा के जाते ही कंपन शुरू कर सकती है।   

लक्षण 

ज्यादातर खर्राटे स्लीप डिसऑर्डर से जुड़े होते है जिसे obstructive sleep apnea (OSA) कहते है जिसमे आपको कुछ परेशानिया हो सकती है अगर आपको नीचे बताई गयी समस्या में से कोई एक भी है तो आपको OSA हो सकता है। वैसे सभी खर्राटे लेने वालो को OSA नहीं होता। 

  • सोते समय साँस का रुकना 
  • दिन के दौरान अधिक नींद आना 
  • ध्यान कम लगा पाना 
  • सुबह जागने पर गले में खराश होना 
  • जागने पर सर दर्द होना 
  • सोते समय दम घुटना 
  • सोते समय छाती में दर्द होना 
  • सोते समय बेचैनी होना 
  • सोते समय ब्लड प्रेशर का बढ़ना 

डॉक्टर को कब दिखाना है ?

अगर ऊपर बताई गयी समस्या में से आपको कोई भी समस्या है तो आपको OSA जो सकता है ये एक तरह का स्लीप डिसऑर्डर है जो आपके अच्छे लाइफ स्टाइल में दिक्कत डाल सकता है, इस समस्या को दूर करने के लिए डॉक्टर से जरूर मिले और अपनी समस्या को जल्दी से दूर करके एक बेहतर जिंदिगी जिए। 

समस्याए 

ज्यादा खर्राटे आना आपके रिश्ते में समस्या पैदा कर सकता है। खर्राटे की आवाज आपके पार्टनर को परेशांन कर सकती है जिससे उनकी नींद भी ख़राब हो सकती है और उनके आने वाले दिन पर बुरा असर डाल सकता है। हलके फुल्के खर्राटे आना आम बात है, लेकिन अगर आप जोर से खर्राटे लेते है तो आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाकर इसका इलाज करना चाहिए जिससे आपका रिश्ता आपके पार्टनर के सात बना रहे। 

हम खर्राटे क्यों लेते है ?

ऊपर बताई गयी समस्या के आलावा भी और दिक्कते हो सकती है अगर आप OSA के जुड़े है तो आपको ये दिक्कते हो सकती है 

  • दिन में नींद आना
  • बात बात पर गुस्सा आना 
  • मुश्किल से ध्यान दे पाना 
  • ब्लड प्रेशर का बढ़ना  

उपाए  

  • वजन कम करने की कोशिस करे 
  • फैट जमा करने वाले भोजन को कम करे 
  • कम कैलोरी वाले खाने का सेवन करे 
  • सोने की पोजीशन को ठीक करे 
  • जंग फ़ूड का सेवन कम करे 
  • गले में ज्यादा फैट जमने से खर्राटे आते हैं इसलिए रोजाना एक्सरसाइज करना बेहद जरुरी है। 
  • 8 से 10 गिलास पानी रोजाना पिए। 
  • दूध में हल्दी और इलाइची डलकर पिए 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ