टेलीस्कोप क्या हैं? जानिए हिंदी में


टेलीस्कोप ब्रह्मांड के लिए खिड़कियों के रूप में कार्य करते हैं। टेलीस्कोप की मदद से हम सौर मंडल का अध्ययन कर सकते हैं और तारों के गुटबंदी को देख सकते हैं। इतना ही नहीं,अलग अलग ग्रहों, आकाशगंगाओं, उपग्रहों और क्षुद्रग्रहों को जो हमने केवल किताबों और पत्रिकाओं में ही देखने को मिलते हैं, वे हमें दूरबीनों के माध्यम से अधिक परिचित कराते हैं। वे मानव और ब्रह्मांड के बीच प्रतिबंध तोड़ने वाले यंत्र के रूप में काम करते हैं। ब्रह्मांड अब हमारे लिए एक रहस्य नहीं है जो हमारी पहुंच से परे मौजूद है और हम सभी दूरबीनों के लिए कर्जदार हैं।

आधुनिक समय की दूरबीनें अपने साथ जरुरी  Device की एक काफी बड़ी range लेकर आती हैं और इन जरुरी Device की सहायता से दूरबीनों को सफलतापूर्वक उचित उपयोग में लाना लेजाना काफी आसान हो जाता है। आइए देखें कि कौन से जरुरी Device हैं जो अच्छी तरह से काम करते हैं और ज्यादा दूरबीन users के लिए "जरूरी" हैं: -  

फिल्टर- टेलिस्कोप users के लिए ये बहुत जरुरी हैं क्योंकि ये eyepiece पर चमक को कम करते हैं और रौशनी  को बिखेरते हैं जिससे हमारे लिए दूर की वस्तुओं को देखना आसान हो जाता है।

eyepiece - यह Device का एक बहुत ही जरुरी टुकड़ा है और इसकी कमी एक दूरबीन को ख़राब कर सकती है। eyepiece कई प्रकार के मार्किट में अलग अलग आकार में आते हैं और यदि आप अपनी दूरबीनों में एक से ज्यादा  eyepiece को जोड़ते हैं तो आपको सबसे छोटी और दूर की चीजें साफ़ दिखाई देगी। 

माउंट- माउंट टेलीस्कोप के लिए स्टैंड हैं। यह एक माउंट है जिस पर दूरबीन टिकी हुई है। चूंकि दूरबीन कंपन में सही तरीके से काम नहीं करती है इसलिए आपको यह पता करना जरुरी है कि दूरबीनको स्थिर रखने के लिए  माउंट का होना जरुरी है। 

barlow lens- बारलो लेंस दूरबीनों के बढ़ोतरी में मदद करता है। ये लेंस अलग अलग आकारों में उपलब्ध हैं और हमें eyepiece के लिए सबसे जरुरी आकार चुनने में सावधानी रखनी चाहिए।

दो मुख्य प्रकार के टेलीस्कोप हैं, रेफ्रेक्टर (गैलीलियो) टेलीस्कोप और रिफ्लेक्टर (न्यूटन) टेलीस्कोप। refracting दूरबीन एक Objective लेंस का उपयोग करता है जो रौशनी को आईपीस की ओर मोड़ता है। जबकि रिफ्लेक्टर टेलीस्कोप एक दर्पण का उपयोग करता है, जो रौशनी को इकट्ठा करता है और फिर इसे आईपीस की ओर directed करता है।

हालांकि रिफ्रैक्टर और रिफ्लेक्टर टेलिस्कोप दोनों ही बाजार में आसानी से उपलब्ध हैं, लेकिन टेलिस्कोप खरीदने से पहले हमें कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी है 

aperture - टेलीस्कोप पर निर्णय लेते समय यह सबसे जरुरी Factor है। एपर्चर वह उद्घाटन है जो रौशनी को इकट्ठा करता है इसलिए एक बड़े एपर्चर के साथ एक टेलीस्कोप चुनना जरुरी होता है जो की साफ़ और ज्यादा अच्छे तरीके से image की Quality को सुनिश्चित करता है। 

Resolution - यह दूरबीनों को अधिक शानदार इमेज बनाने में लायक़ बनाता है। इसलिए हमेशा ऐसे टेलीस्कोप का चुनाव करें, जिसका रिजॉल्यूशन ज्यादा हो। इसके अलावा चूंकि रिज़ॉल्यूशन भी एपर्चर द्वारा निर्धारित किया जाता है, इसलिए एपर्चर जितना बड़ा होगा, रिज़ॉल्यूशन उतना ही बेहतर होगा।

फोकल लंबाई- लेंस या दर्पण के optical Center और आईपीस के optical center के बीच की दूरी को फोकल की लंम्बाई मन जाता है फोकल की लंबाई वह है जो दूरबीनों में ज़्यादा होना को निर्धारित करती है। बड़ी फोकल लंबाई अधिक वृद्धि का संकेत देती है।

अगर हम ऊपर बताये गयी बातो को धियान रखते है तो हमे नई दूरबीन को खरीदने में कयदा समय नहीं लगेगा। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ