Goal Setting कैसे करे | सफलता को पाने के लिए goal setting के 10 कदम

goal setting एक बहुत बड़ा हथियार है अपनी सफलता को हासिल करने के लिए बहुत से लोग इसी वजह से अपने जीवन में काफी मेहनत करने के बाद भी असफल हो जाते है क्योकि कही ना कही उनकी गोल सेटिंग में कमी रह जाती है अपनी कामयाबी के लिए आपको goal setting जरूर करनी चाहिए इससे आपके सफल होने के चांस बढ़ जाते है।  

goal setting क्या होती है ?

goal setting उस मेनेजमेंट को कहा जाता है जिसमे आप हर हालत को समजकर आगे बढ़ते हो जो गोल आप पाना चाहते हो उसके लिए क्या काम करना जरुरी है और क्या जरुरी नहीं है जिस लेवल के एक्शन आपको लेने होंगे और आपके goal के लिए क्या काम जरुरी है और उस चीज की समझ होना जो करना जरुरी है  जिससे आपके दिमाग में कोई confusion ना रहे और आप अपने goal पर फोकस रह सके।  

goal setting करने से पहले आपको ये जानने की जरुरत है के आखिर आप करना क्या चाहते है पहले तो अपने goal को पहचानो और आप अपने goal के किस मुकाम पर पहुंचना चाहते है उसकी के आधार पर आप बड़े अच्छे से अपनी goal setting कर पाएंगे, जिससे आपको बहुत ज्यादा मदद मिलेगी। 

goal setting क्यों जरुरी है ?

जब हम कोई भी काम शुरू करते है तो हमे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है क्योकि हमे उस काम के बारे में ज्यादा पता नहीं होता और ना ही उस काम को करने की हमारी कोई आदत होती है इसलिए goal setting से हमे काम करने का तरीका पता चलता है और साथ ही साथ ये भी पता चलता है के क्या जरुरी है और क्या जरुरी नहीं  है। गोल सेटिंग आपके काम करने की क्षमता को बड़ा देती है इससे आपको clear हो जाता है की कौन से काम जरुरी है अपने गोल को पाने के लिए। 

हमेशा गोल सेटिंग करने से पहले उन लोगो से जरूर बात करे या उन लोगो को observe करे जो उस काम में सक्सेस हो चुके है जरूर जानने की कोशिस करे के उन लोगो ने क्या क्या कदम उठाए उस गोल को पाने के लिए, ऐसा करने से आपके सक्सेस होने के चांस बहुत ज्यादा बढ़ जाएंगे  .  


1. अपने गोल को जानो 

पहला कदम आपका goal आपके दिमाग में क्लियर होना चाहिए जिससे आपको गोल को पाने के लिए आसानी हो गोल सेटिंग तब ही कामयाब हो सकती है जब आप उस गोल को सचमे पाना चाहते हो और सचमे कामयाब होना चाहते हो तभी आपकी गोल सेटिंग आपके काम आ सकती है क्योकि गोल सेटिंग पर चलना ये आपके इंट्रेस्ट के ऊपर है के उस गोल को आप पाना चाहते हो या नहीं।  

गोल पता करने के बाद फिर आपको सोचना है और योजना बनानी है के किस तरीके से इस गोल को पाया जाए और कौन कौन से एक्शन लेने पड़ेंगे क्या चीजे करनी है और क्या नहीं करनी इसको भी क्लियर करे और ये भी याद राखे के आपको किस मुकाम तक पहुंचना है। 

अगर आप किसी एंट्रेंस एग्जाम की तयारी कर करे रहे है और उसके लिए आपको गोल सेटिंग करनी है तो आपको पहले जानना होगा के उस एग्जाम को क्रेक करने के लिए क्या क्या करना जरुरी है हर चीज के बारे में आपको जानकारी इखट्टा करनी पड़ेगी और जो लोग पहले से उसको क्रेक कर चुके है उनके बारे में जानने की भी कोशिस करे, आपको मदद मिलेगी। 

2. हमेशा कीमत चुकाने के लिए तैयार रहे 

कामयाबी की कीमत हमेशा बड़ी होती है इसलिए आपको इसके लिए हमेशा तैयार रहना पड़ेगा, अपने दिमाग में हमेशा रखिए के सक्सेस को पाने के लिए कीमत तो चुकानी ही पड़ेगी और ये कीमत पैसो की नही है. हर कामयाबी secrifice और समझदारी से की गई मेहनत की कीमत मांगती है। पर इसमें भी कोई शक नहीं है के जब मिलती है तो बेहिसाब मिलती है। 

3. गोल पर फोकस बनाए रखे 

जब हम किसी गोल को पाने के लिए सीरियस होते है तो हम अपने आप उस काम में ध्यान देने लगते है पर फिर भी कुछ चीजे ऐसी होती है जिससे हमारे ध्यान अपने काम से भटक सकता है तो हमेशा अपनी तैयारी रखे के आपका फोकस उस गोल से हेट ना, काम के बीच में आराम  जरुरी है जिससे आपकी काम करने की क्षमता और बढ़ जाएगी। 



4. आदत को सुधारे 

अपनी आदतों को पहचाने और उनपर काम करे अगर कोई आदत आपके गोल में आगे बढ़ने में रूकावट बन रही है तो उसको बदले की कोशिस करे क्योकि ये आदते आपको काफी नुक्सान पंहुचा सकती है और आपको आपके गोल से दूर कर सकती है। 

5. हेल्थ का ध्यान राखे 

हेल्थ गोल को पाने के लिए हेल्थ का ठीक होना सबसे जरुरी है। अपनी सेहत का ध्यान रखना भी गोल सेटिंग का ही हिस्सा है जैसे दिन में कितने समय काम करना है बॉडी को कब रेस्ट करना है ये सब बातो का ध्यान होना बेहद जरुरी है। आप ज्यादा अच्छे से काम तभी कर पाएंगे जब सेहत ठीक रहेगी तो अपनी सेहत का ख्याल जरूर रखे। 


6. गोल को पाने का आसान तरीका 

आप अपने गोल को बड़े आराम से पा सकते हो बस आपको ये ध्यान देना है के आखिर आप उस गोल को पाना  क्यों चाहते हो आखिर किस लिए आप ये काम करना चाहते हो और उसको करने से आपको क्या हासिल होगा? क्या आपको सचमे इस काम में इंट्रेस्ट है अगर ये बाते आपको क्लियर है तो आप अपने गोल को बड़े आराम से पा सकते हो 

7. जानुनी बन जाना 

जानुनी का मतलब यहा पर होता है के अपने काम के साथ पूरी  तरह से जुड़ जाना और अपने काम में पूरी तरह सीरियस और फोकस रहना और हमेशा अपने गोल को पूरा करने के लिए समझदारी से काम करना। 

8. टाइम मनेजमेंट 

काम को करने के लिए टाइम मेनेजमेंट का जरूर घ्यान रखे हर काम को ठीक से मैनेज करने से प्रोडक्टिविटी बढ़ती है और आपको भी संतुस्टी रहती है। गोल सेटिंग में टाइम मेनेजमेंट का बहुत बड़ा रोले है इससे आप किसी भी गोल को पूरा कर सकते हो 



9.  धैर्य

सफलता पाने के लिए धैर्य सबसे बड़ा गुण है, अगर यह आपके अंदर है तो आप कुछ भी कर सकते हैं। इसलिए यदि आप वास्तव में अपने लक्ष्य को प्राप्त करना चाहते हैं तो आपके अंदर धैर्य होना जरूरी है।

10. समझदारी से काम करना 

सारी गोल सेटिंग आपकी समझदारी पर ही आधारित है अगर आप सोच समझकर अपने गोल को सेट करते है और उसके बाद अपनी गोल सेटिंग करते है तो काफी ज्यादा चांस है आपके सक्सेसफुल होने के, समझदारी ही आपको आपके गोल के करीब ले जाएगी।  



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ