(BLC) Backlight Compensation क्या है ? पूरी जानकारी (in hindi)

मस्कार दोस्तों स्वागत करते है hindiwayjt के हेल्पफुल चैनल पर, आज हम आपको बताने जा रहे है एक बहुत ही बेसिक और जरुरी टेक्निकल जानकारी जिसको आप जरूर जानना चाहेंगे। आज का टॉपिक है backlight compensation क्या होता है। शायद आपमें से बहुत सारे लोगो ने इसके बारे में पहले कभी नहीं सुना होगा और बहुत से लोग जानते होंगे backlight compensation क्या होता है। 

चलिए आज का टॉपिक शुरू करते है backlight compensation क्या होता है? आज के समय में सब smartphone इस्तेमाल करते है और जी भरके फोटो क्लिक करते है पर क्या कभी अपने सोचा है के आपकी फोटो क्लियर कैसे दिखाई देती है, आप जो फोटो लेते है उसमे सारी लाइट मैंटेन रहती है, दरअसल ये backlight compensation की वजह से हो पता है। आपकी फोटो के अंदर जितनी lights होती है BLC उन सबको adjust करता है। अगर आसान भाषा में बात करे तो आपकी फोटो के अंदर की सभी लाइट्स की brightness को एडजस्ट करती है। 

पहले के समय में अपने देखा होगा के जब फोटो क्लिक की जाती थी तो वो इतनी क्लियर नहीं होती थी। आप अपने माता पीता के वोटर id कार्ड के अंदर की फोटो को देखकर आसानी से समझ सकते है उस समय BLC फीचर का इस्तेमाल कैमरे के अंदर नही होता था जिसकी वजह से फोटो काफी डार्क दिखाई देती थी। जिसमे चेहरे की पहचान कर पाना बहुत ही मुश्किल होता था. पर अब ऐसा नहीं होता है अब हर कैमरे के अंदर BLC फीचर इस्तेमाल होता है फोटो को बेहतर बनाने के लिए। 

backlight compensation की शुरुआत कब हुई ?

backlight compensation की शुरुआत सन 2016, US में हुई थी। इस फीचर को Jace W. Files और Preeth K. Srinivasan, के द्वारा इंवेंट किया गया था। इसको क्प्म्पुटर में इस्तेमाल करने के लिए बनाया गया था। BLC डिस्प्ले की इमेज की ब्राइटनेस को कंट्रोल या एडजस्ट करने के लिए हुआ था जिसकी मदद से इमेज साफ़ दिखाई दे सके। 

(BLC) Backlight Compensation क्या है ?

backlight compensation बहुत ज्यादा brightness (high illumination) कंट्रोल करता है जिसकी मदद से पिक्चर साफ़ दिखाई देती है आप इसको एक example से समझिए अगर कोई इंसान रूम की window से सामने खड़ा है जिसमे से धुप रूम के अंदर आ रही है तो यहा पर सारा फोकस धूप की रौशनी पर चला जाता है अगर आप बिना BLC के पिक्चर क्लिक कर रहे है तो, विंडो के सामने खड़ा इंसान साफ़ दिखाई नहीं देगा। और अगर आप BLC फीचर का इस्तेमाल कर रहे है तो आप आसानी से धुप की brightness को एडजस्ट कर सकते है जिससे खड़ा हुआ इंसान साफ़ दिखाई दे सके। BLC का इस्तेमाल liquid crystal display में होता है जेसे LCD TV & LED TV, Smartphone, Computer, Camera etc.. में किया जाता है। 

आप एक और उदहारण से समझिए अगर कोई वास्तु किसी ऐसी जगह पर रखी हुई है जिसके पीछे से बहुत रौशनी आ रही है उस कंडीशन में अगर आप उस वास्तु की पिक्चर क्लिक करेंगे तो सारा फोकस उस तेज रौशनी पर चला जायेगा और वहा रखी हुई वास्तु आपको साफ़ दिखाई नहीं देगी पर BLC इस समस्या को दूर करने के लिए ही बनाया गया है जिसकी मदद से आप अपनी पिक्चर की लाइट्स को अपने हिसाब से एडजस्ट कर सकते है। BLC इमेज की quality को बढ़ा देता है जिससे देखकर आपको बड़ी ख़ुशी होती है।

backlight compensation काम कैसे करता है ?

जब हम कैमरे से कोई ऐसी फोटो क्लिक करते है जिसमे ऑब्जेक्ट के पीछे बहुत ज्यादा रौशनी होती है तब केमेरा पिक्चर की सारी लाइट्स को रीड कर लेता है और backlight compensation की मदद से वो उन्ही लाइट्स पर फोकस करता है जिनको आप देखना चाहते है और बाकि backround लाइट्स को कम कर देता है जिससे आपको इमेज साफ़ दिखाई दे सके, 

BLC को इस्तेमाल करने के लिए कैमरे में automatic exposure controlar लगाया जाता है जो खुद इमेज के अंदर की लाइट्स को एडजस्ट करने के लिए BLC को on कर देता है जिससे over brightness कम हो जाती है। इसकी मदद से केमेरे का सारा फोकस इंट्रेस्ट area पर होता है। और छोटे एरिया के फोकस को IGNOR कर देता है। जैसे के अपने CCTV कमरे में भी देखा होगा के अँधेरे में अगर कोई इंसान चल रहा है तो केमेरे का सारा फोकस उस इंसान पर होता है जो अँधेरे में भी साफ़ दिखाई देता है। 

BACKLIGHT COMPENSATION FEATURES 

  • क्लिक की गयी पिक्चर की लाइट्स या BRIGHTNESS को कंट्रोल करता है। 
  • इमेज के छोटे AREA को IGNORE कर देता है। 
  • अपने हिसाब से पिक्चर की BRIGHTNESS को एडजस्ट का ऑप्शन देता है 
  • नेचुरल लाइट्स को कम कारने में मदद करता है। 
  • हाई ILLUMINATION को मेन्टेन रखता है 
  • dark एरिया में भी साफ़ पिक्चर को साफ़ दिखता है। 
  • इमेज की क्वालिटी को बढ़ता है। 
  • BLC इमेज की सभी हिस्से को अलग कर देता है जिससे आसानी से सभी पिक्चर की लाइट्स को एडजस्ट किया जा सकता है। 
BLC कहा पर इस्तेमाल होता है (BLC APPLICATIONS)
  • CCTV CEMERA - cctv के अंदर BLC होता है जिससे वो कम रौशनी में भी ऑब्जेक्ट की brightness को बढ़कर इमेज साफ़ करता है। जब किसी सड़क पर cctv कैमरा लगा होता है तो उसका काम होता है के अँधेरे में भी ऑब्जेक्ट साफ़ दिखाई दे सके। 
  • COMPUTER - कंप्यूटर में BLC फीचर होता ताकि हम अपनी इमेज को कंप्यूटर के जरिए आसानी से edit कर सके अपने हिसाब से हम इमेज या वीडियो को एडिट कर सकते है और उनकी brightness को एडजस्ट कर सकते है। 
  • SMARTPHONE - स्मार्ट फ़ोन भी कंप्यूटर की तरह ही काम करता है केलिन इसके अंदर इतने फंक्शन नहीं होते जितने कंप्यूटर में होते है लेकिन स्मार्टफोन की मदद से भी आप अपनी पिक्चर की brightness को कम ज्यादा कर सकते है। 
  • LED TV - LED टीवी में भी BLC फीचर होता है जब आप टीवी देखते है और आप फील करते है के टीवी की लाइट्स आपकी आँखों में चूब रही हो तो उस केस में आप अपने हिसाब से brightness को एडस्ट कर सकते है।
  • LCD TV - LCD टीवी का भी काम LED टीवी की तरह ही है इसमें भी आप अपने हिसाब से पिक्चर की brightness को एडजस्ट कर सकते है। 
AUTO BACKLIGHT COMPENTATION  क्या है ?

इसके नाम से ही आप समझ गए होंगे के ये आटोमेटिक BACKLIGHT COMPENSATE करता है जब किसी पिक्चर को क्लिक किया जा रहा होता है और उस पिक्चर में BACKROUND से तेज रौशनी आ रही है तब केमेरा ऑटोमेटिकली BACKLIGHT COMPENTAION को ON कर देता है जिससे इमेज में आने वाली तेज रौशनी अपने आप कम हो जाती है। ये एक एडवांस फीचर है जो सिर्फ महंगे स्मार्टफोन और कैमरे में इस्तेमाल किया जाता है। एक आम स्मार्टफोन में ये फीचर नही मिलेगा पर आप चिंता ना करे आपके स्मार्टफोन में जरूर BLC फीचर का ऑप्शन जरूर होगा। 

इस ऑप्शन का ये फायदे है के ये अपने आप इमेज कीलाइट्स को SCAN कर लेता है और जहा लाइट की कमी हो तो उस एरिया की BRIGHTNESS को अपने आप बढ़ा देता है जिससे की इमेज साफ़ दिखाई दे सके। 
 
WIDE DYNAMIC RANGE क्या होता है 

Wide Dynamic Range एक स्मार्ट फीचर होता है जो पिक्चर की सभी एरिया को क्लियर करता है अगर आप जिसकी कमरे में बैठे है जहा से तेज धुप आ रही है जिसमे आपकी इमेज साफ़ नही दिखती लेकिन WDR फीचर से आप backround area और इंटरेस्ट एरिया दोनों को क्लियर कर सकते है WDR अपने आप इमेज की सारी लाइट्स को स्कैन करके कम रौशनी वाली जगह पर brightness को बढ़ा देता है और ज्यादा रौशनी में से brightness को कम कर देता है। 

WDR और BLC में क्या अंतर है ?
  • WDR इमेज के backround area और interest area दोनों की लाइट्स को कंट्रोल करता है और इमेज को साफ़ करता है। जब कोई पिक्चर क्लिक की जाती है तो उसमे brightness को adjust करने के आलावा और भी बहुत से काम करने होते है वाइड डायनामिक रेंज इमेज को क्लियर बनाती है ये फोटो के हर एक हिस्से की पिक्सेल को सही ढंग से एडजस्ट करती है जिससे इमेज का हर एक कोना साफ़ दिखाई दे सके।   
  • BLC इमेज की brightness को कम करती है और लेकिन पिक्चर को क्लियर नही करती WDR इमेज की लाइट्स और इमेज को क्लियर कारने का काम करता है BLC का काम बस लाइट्स कम ज्यादा करना है वो इमेज की पिक्सल को एडजस्ट नहीं करता, BLC इमेज के हर कोने में braightness को कम या ज्यादा कर सकती है लेकिन इमेज को क्लियर करने के लिए WDR के फीचर का इस्तेमाल करना पड़ता है।
आज अपने सीखा के backlight compensation क्या होता है आगे हम इससे रिलेटेड टॉपिक्स को आर्टिकल्स के जरिए आपको बताएंगे। हमे खुसी है के हमारी मेहनत आपके काम आ रही है। हम आगे भी ऐसे ही आपको जानकारी पहुंचते रहेंगे। 

हमारी हमेशा ये कोशिश रहती है के अपने दर्शको को आसान भाषा में पूरी जानकारी दी जाए जिससे उनका समय बच सके। 

हम उम्मीद करते है के आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा। हम और हमारी टीम ऐसे ही जरुरी टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखते रहेंगे ताकि ये आपको हेल्प कर सके। हमारा लक्ष्ये आपको किसी भी टॉपिक के ऊपर पूरी और सही जानकारी देना है और वो भी आसान भाषा में। 

आप hindiwayjt के और भी आर्टिकल्स को रीड कर सकते है और अगर आपको हमारे आर्टिकल पसंद आते है तो हमे कमेंट करके जरूर बताये। और आगे आप जिस टॉपिक के बारे में जानना चाहते है तो हमे कमेंट के जरिये बताए हम जरू उसके ऊपर आर्टिकल लिखने की कोशिश करेंगे। 
 

 


  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ